अंर्तराष्ट्रीय महिला दिवस आज

महिलाओ ने दिया समाज मे सम्मान पाने के लिये शिक्षा पर जोर
फिरोजाबाद। महिलाओं को आर्थिक राजनीतिक एवं समाजिक उपलब्धियों के प्रति सम्मान दर्शाने के लिये हर साल आठ मार्च को अंर्तराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। अंर्तराष्ट्रीय महिला दिवस महिलाओं के सशक्तिकरण का प्रतीक हैं। इस दिन को मनाने को प्रमुख लक्ष्य महिलाओं के अधिकारों को बढ़ावा देना है।अंर्तराष्ट्रीय महिला दिवस की शुरूआत महिला मजदूर आंदोलन से हुई थी।

अंर्तराष्ट्रीय महिला दिवस पर समाज सेविका कल्पना राजौरिया ने सभी महिलाओ को शुभकामना देते हुये कहा कि देश में शिक्षित महिलाओ ंको पहले से ज्यादा सम्मान मिला है। लेकिन जो महिलायें अशिक्षित है। उन्हे अभी वह सम्मान नही मिल पाया है। जिसकी वो हकदार है। शिक्षा के जरिये ही हम अपने अधिकारों एवं समाज में सम्मान पा सकती है।

डा. पूनम अग्रवाल ने अंर्तराष्ट्रीय महिला दिवस पर शिक्षा पर जोर देते हुये कहा कि जब तक महिलाये शिक्षित नही होगी तब तक वह अपने अधिकारों के बारे में नही जान पायेगी। साथ ही कहा कि सरकार के द्वारा महिलाओे एवं लड़कियों के लिये अनेको योजनाये चलाई जा रही है। जिस कारण पहले से अधिक महिलाये एवं लडकियों की भागीदारी हर क्षेत्र में हो रही है। उन्होने महिलाओं से लडके एवं लडकियों को समान रूप से देखने की बात कही।

- Advertisement -
- Advertisement -spot_img

Related News

- Advertisement -