फिरोजाबाद: जिलाधिकारी ने विकास भवन सभागार में अधिकारियों संग की बैठक

-बैठक में कार्य में लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों को लगाई फटकार
-सभी ग्राम पंचायत में खेल मैदान व पार्क विकसित करने के दिए निर्देश
-सिरसा व सेंगर नदी सहित जनपद की पांचो नदियों का पूनरोद्वार कराने के दिए निर्देश

फिरोजाबाद। जिलाधिकारी रमेश रंजन ने जनपद के विकास कार्य एवं कल्याणकारी योजनाओं में गति लाने के लिए जिला स्तरीय अधिकारियों से लेकर विकास खंड स्तरीय अधिकारियों के साथ शुक्रवार को विकास भवन सभागार में बैठक कर सरकार द्वारा चलाई जा रही विकास परक व जनकल्याणकारी योजनाओं की विस्तार से समीक्षा की। समीक्षा के दौरान उन्होंने परिषदीय विद्यालयों में नवीन विद्यार्थियों की नामांकन की स्थिति, विद्यालय में अध्यनरत दिव्यांग बच्चों के प्रमाण पत्र एवं उन्हें प्रदत्त सुविधाएं, ऑपरेशन कायाकल्प तथा मिशन पोषण आदि की समीक्षा की। समीक्षा के दौरान विकास खंड शिकोहाबाद में कम नामांकन पाए जाने पर खंड शिक्षा अधिकारी शिकोहाबाद को प्रतिकूल प्रविष्टि जारी करने एवं नामांकन की नियमित समीक्षा करने के निर्देश जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को दिए।

उन्होंने सभी ग्राम पंचायतो में खेल के मैदान व पार्क मनरेगा योजना से विकसित कराने के लिए डीसी मनरेगा, डीपीआरओ एवं जिला विकास अधिकारी को निर्देश दिए। उन्होंने डीसी मनरेगा व सम्बन्धित खंड विकास अधिकारियों को निर्देश दिए कि वह जनपद की पांचो नदी सिरसा, सेंगर, आवा, ईशान व अरिंद नदी का पुनरोद्धार का कार्य कराने के निर्देश दिए, ताकि गिरते भू-जल स्तर में सुधार हो सके और क्षेत्र के किसानों को सिचाई कार्य मे मदद मिल सके। उन्होने सभी खंड विकास अधिकारियों को निर्देश दिए की दस जून से पूर्व क्षेत्र पंचायत की बैठक कर प्रत्येक क्षेत्र पंचायत में क्षेत्र पंचायत के बजट से नवीन गौ संरक्षण केंद्र विकसित किए जाएं और उनके लिए सहभागिता से भूसा दान कराया जाए।

उन्होंने ग्रामीण आजीविका मिशन की समीक्षा करते हुए कहा कि लक्ष्य के सापेक्ष महिलाओं को योजना अंतर्गत रोजगार से जोड़ा जाए और यह केवल कागजों पर नहीं बल्कि वास्तविक रूप से उनके जीवन स्तर व आर्थिक स्तर में वृद्धि दिखे। बैठक के दौरान मुख्य विकास अधिकारी दीक्षा जैन, परियोजना निदेशक प्रदीप पांडे, जिला विकास अधिकारी महेंद्र प्रताप यादव, जिला अर्थ एवं संख्या अधिकारी एमपी सिंह सहित संबंधित जिला स्तरीय अधिकारी, सभी खंड विकास अधिकारी, संबंधित विकास खंड स्तरीय अधिकारी उपस्थित रहे।