शिकोहाबाद: जमीन पर पटक कर की गई थी अगवा बच्ची की हत्या

-कपड़ा बरामद कराने ले गई पुलिस पर आरोपी ने की फायिरंग, मुठभेड़ में घायल

शिकोहाबाद। शुक्रवार को एक बच्ची को घर से ले जा कर बच्ची को अगवा करने के बाद उसको जमीन पर पटक कर आरोपित ने हत्या कर दी। घटना के बाद आरोपित ने बच्ची के कपड़े और अपने खून से सने कपड़े नहर किनारे झाड़ियों में छिपा दिये। पुलिस जब उससे कपड़े बरामद कराने गई तो उसने पहले से ही छिपा कर रखे तमंचा से पुलिस टीम पर पर रविवार की रात फायर कर दिया और भागने लगा। जिसके बाद पुलिस ने बचाव करते हुए आरोपित पर फायरिंग की। इस दौरान पुलिस की गोली उसके बायें पैर में लग गई, जिसके बाद वह गिर पड़ा। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर संयुक्त चिकित्सालय में भर्ती कराया।

31 मई की शाम सात बजे आरोपी गुलफाम अपनी रिश्ते के साले की डेढ़ वर्षीय पुत्री मेहर उर्फ महक को अगवा कर ले गया था। परिजनों की सूचना पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज जांच शुरू कर दी। दो जून की सुबह उसका शव पंजाबी कॉलोनी में नाली के पास पड़ा मिला। शव मिलने के बाद क्षेत्र में सनसनी फैल गई। पुलिस ने हिरासत में लिए आरोपी गुलफाम को रविवार रात को बच्ची के कपड़े और आरोपित के खून से सने हुए कपड़े बरामद करने को नहर किनारे ले गई। जहां आरोपी ने पहले से ही छिपाये हुए तमंचा से पुलिस टीम पर फायर कर भागने लगा। जवाबी कार्यवाही में पुलिस ने भी फायर किया जो आरोपित के पैर में लग गया। जिससे वह घायल होकर जमीन पर गिर पड़ा। पुलिस ने उसको गिरफ्तार कर अस्पताल में भेज दिया। उधर थाना पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद बच्ची के शव को रविवार शाम सात बजे उसके स्वजनों के सुपुर्द कर दिया। स्वजनों ने रात में ही बच्ची के शव को कब्रिस्तान में दफन कर दिया।

शुक्रवार को अगवा बच्ची के गायब होने के बाद पुलिस ने अपहरण का प्राथमिकी एक जून की रात साढ़े 12 बजे के करीब दर्ज कर जांच शुरू कर दी थी। लेकिन दो जून को सुबह शव मिलने के बाद पुलिस ने हत्या, हत्या के उद्देश्य से अपहरण और हत्या में सहयोग और साक्ष्य मिटाने की विभिन्न धाराओं को प्राथमिकी में बढ़ा दिया है। पुलिस आरोपित को आजीवन कारावास तथा फांसी जैसी सजा दिलाने के लिए ठोस साक्ष्य संकलन कर रही है। जिससे आरोपित गुलफाम को तो उम्र कैद कराई जा सके। पुलिस ने आरोपी की पत्नी नेहा उर्फ नन्नो को हत्या में सहयोग करने का दोषी माना है। वहीं पुलिस ने सोमवार को आरोपित को रिमांड पर लेकर जेल भेज दिया।

इस मामले में सोमवार को इंस्पेक्टर आरोपित के रिमांड और अस्पताल से छुट्टी कराने में व्यस्त रहे। वहीं पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद पुलिस ने बच्ची की हत्या के पीछे के अन्य बिंदुओं पर भी जांच शुरू कर दी है। सीओ प्रवीन कुमार तिवारी ने बताया कि चार जून को मतगणना को सकुशल संपन्न कराने के बाद इस काम पर अधिक तेजी लाकर दोषियों को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जायेगा।

Dinesh
Dinesh

दीनेश वशिष्ठ एक अनुभवी और समर्पित पत्रकार हैं, जो पत्रकारिता के क्षेत्र में अपनी गहन समझ और निष्पक्ष रिपोर्टिंग के लिए प्रसिद्ध हैं। उन्होंने पत्रकारिता में कई वर्षों का अनुभव अर्जित किया है। दीनेश की विशेषता उनकी गहरी शोध क्षमता और सत्य को उजागर करने की प्रतिबद्धता है। उन्होंने कई महत्वपूर्ण घटनाओं को कवर किया है और उनके रिपोर्ट्स ने समाज पर सकारात्मक प्रभाव डाला है।

Articles: 707