फिरोजाबाद: हेड इंजरी से हुई थी बंदी आकाश की मौत

-थाना या जेल में कहां हुई पिटाई, मजिस्ट्रीयल जांच से चल सकेगा पता

फिरोजाबाद। बाइक चोरी के मामले में जेल गए बंदी की मौत की वजह हेड इंजरी निकलकर आई है। उसके शरीर पर भी चोट के निशान थे। उसकी पिटाई थाने में हुई या जेल में। यह अभी तक स्पष्ट नहीं हो सका है। परिजनों ने भी पुलिस पर पीटने का आरोप लगाया था।

थाना दक्षिण क्षेत्र के नगला पचिया निवासी आकाश कुमार और उसके दोस्त शिवम सिंह निवासी हंस वाहिनी स्कूल वाली गली नाले की पुलिया हिमायूंपुर को थाना दक्षिण पुलिस ने मंगलवार शाम चार बजे चोरी की बाइक, बाइक के कटे पार्ट्स और तमंचे के साथ गिरफ्तार किया था। बुधवार सुबह ट्रामा सेंटर पर डाक्टरी परीक्षण के बाद दोनों को न्यायालय के आदेश पर जेल भेजा गया था। डाक्टरी परीक्षण के दौरान आकाश के शरीर पर चोट के निशान नहीं पाए गए थे। जेल अधीक्षक एके सिंह ने बताया कि आकाश को दोपहर डेढ़ बजे जेल में दाखिल किया गया था। इस बीच गुरुवार देर रात बैरक नंबर 14 में 38 बंदियों के साथ बंद आकाश की तबीयत खराब हो गई। रात में जेल में उपचार से वह ठीक हो गया था।

शुक्रवार सुबह पांच बजे उसकी तबीयत फिर बिगड़ गई। आकाश को ट्रामा सेंटर भिजवाया गया। वहां 6.35 बजे उसकी मृत्यु हो गई। तीन डाक्टरों के पैनल कराए गए शव के पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बंदी की मृत्यु की वजह हेड इंजरी से बताई गई थी। दोनों पैर, हाथ और कंधे समेत शरीर के कई अंगों पर चोट के निशान मिले थे। अंग नीले पड़ गए थे। बंदी के परिजन और हंगामा करने वाली भीड़ ने भी मृत्यु की वजह पिटाई से होने का आरोप शुक्रवार को लगाया था। एसएसपी सौरभ दीक्षित ने बताया कि जेल में दाखिल करने से पहले तक आकाश के शरीर पर चोट के निशान नहीं थे।

वहीं जेल अधीक्षक सिंह ने बताया कि जेल के अंदर ऐसी कोई घटना नहीं हुई, जिससे बंदी को चोट आए। अब मजिस्ट्रीयल जांच होने पर सब स्पष्ट हो सकेगा। बंदी की मौत के बाद हुए बवाल में पुलिस ने 57 लोगों के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज कराई है। शनिवार सुबह पांच लाख रुपये का चेक देने के साथ ही शव का अंतिम संस्कार किया गया।

 

Ravi
Ravi

रवि एक प्रतिभाशाली लेखक हैं जो हिंदी साहित्य के क्षेत्र में अपनी अनूठी शैली और गहन विचारधारा के लिए जाने जाते हैं। उनकी लेखनी में जीवन के विविध पहलुओं का गहन विश्लेषण और सरल भाषा में जटिल भावनाओं की अभिव्यक्ति होती है। रवि के लेखन का प्रमुख उद्देश्य समाज में सकारात्मक परिवर्तन लाना और पाठकों को आत्मविश्लेषण के लिए प्रेरित करना है। वे विभिन्न विधाओं में लिखते हैं,। रवि की लेखनी में मानवीय संवेदनाएँ, सामाजिक मुद्दे और सांस्कृतिक विविधता का अद्वितीय समावेश होता है।

Articles: 2218