फिरोजाबाद: राष्ट्रीय अधिवेशन पुणे में सुहागनगरी का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं अश्वनी जैन

फिरोजाबाद। विज्ञान भारती के 6 वें राष्ट्रीय अधिवेशन का दो दिवसीय आयोजन संत श्री ज्ञानेश्वर विश्व शांति प्रार्थना गुम्बद, विश्वराज लोनी कालभोर, पुणे में किया जा रहा है। जिसका प्रारम्भ राज्यसभा सांसद मेधा कुलकर्णी, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद भारत सरकार के सचिव प्रो. अभय कानिदकर, विज्ञान भारती के पूर्व अध्यक्ष प्रो. विजय भटकर, एमआईटी के अध्यक्ष विश्वनाथ कराड एवं विज्ञान भारती के राष्ट्रीय अध्यक्ष शेखर मांडे आदि ने दीप प्रज्वलित कर किया। इस राष्ट्रीय अधिवेशन में जनपद फिरोजाबाद के विद्यार्थी विज्ञान मंथन के जिला समन्वयक अश्वनी कुमार जैन ब्रज प्रांत उत्तर प्रदेश से जनपद फिरोजाबाद का प्रतिनिधि कर रहे हैं।

अश्वनी कुमार जैन ने बताया कि इस राष्ट्रीय अधिवेशन में सम्पूर्ण भारत के साथ अंतर्राष्ट्रीय स्तर के व्यक्ति भी प्रतिभाग कर रहे हैं। इस अधिवेशन का मुख्य विषय समग्र विकास की भारतीय अवधारणा और विज्ञान भारती की भूमिका रहा। इसके साथ ही विज्ञान भारती की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की घोषणा की गई। विज्ञान भारती की रूप रेखा को रखते हुए बताया कि इस वर्ष विद्यार्थी विज्ञान मंथन ऑनलाइन परीक्षा में 1.2 लाख विद्यार्थियों ने प्रतिभाग किया।

विज्ञान भारती भारत सरकार, गैर सरकारी संस्थाओं के मिलकर विभिन्न वैज्ञानिक कार्यों को संपादित करा रही है। वर्तमान में नवाचार, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के माध्यम से देश में स्टार्टअप अधिक से अधिक हो रहे हैं। राष्ट्रीय शिक्षा नीति के माध्यम से अनुसंधान को बढ़ाने के लिए अनुसंधान रिसर्च फाउंडेशन की स्थापना की जाएगी। जिसके माध्यम से विद्यालयों के साथ राज्य स्तरीय विद्यालय, इंजीनियरिंग कॉलेज में अनुसंधान के प्रति जागरूकता बढ़ेगी।

इस अवसर पर उनके साथ ब्रज प्रांत के डॉ अमित अग्रवाल, डॉ संध्या अग्रवाल, मनोज रावत, अमित तायल, कामता प्रसाद गुप्ता, सीमा गुप्ता, यशस्विता चैहान, ममतेश अग्रवाल, राजीव गर्ग, उपमा अग्रवाल, रितु सिसोदिया, सुमित गुप्ता, संगीता गुप्ता, मानवी गुप्ता, निकिता अग्रवाल, मीनाक्षी तायल आदि की प्रतिभागिता रही।

praveen upadhyay
praveen upadhyay

शालू एक उत्साही और समर्पित पत्रकार हैं, जो पत्रकारिता के क्षेत्र में अपनी ताजगी और नवाचार के लिए पहचानी जाती हैं। उन्होंने विभिन्न सामाजिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक मुद्दों पर गहरी और संवेदनशील रिपोर्टिंग की है। शालू की लेखनी की विशेषता उनकी संवेदनशील दृष्टिकोण और सटीक तथ्यों की प्रस्तुति है, जो पाठकों को घटनाओं की वास्तविकता से रूबरू कराती है।

Articles: 1144