फिरोजाबाद: 44.50 करोड़ की लागत से बनेगा क्रिटिकल केयर 100 शैय्या हॉस्पीटल

-सदर विधायक ने भूमि पूजन कर रखी आधारशिला

फिरोजाबाद। मेडीकल काॅलेज के जिला अस्पताल परिसर में एक और 100 शैय्या हॉस्पीटल बनेगा, जिसमें नाजुक स्थिति के मरीजों को भर्ती कर उनका उपचार किया जाएगा। अब किसी क्रिटिकल (नाजुक स्थिति वाले) मरीजों को आगरा रेफर करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। इस हॉस्पीटल के निर्माण हेतु जिला अस्पताल परिसर में सदर विधायक मनीष असीजा ने हवन यज्ञ एवं वेद मंत्रों के उच्चारण के साथ भूमि पूजन कर आधार शिला रखी।

इस अवसर पर सदर विधायक मनीष असीजा ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उप मुख्यमंत्री व चिकित्सा शिक्षा मंत्री बृजेश पाठक के आशीर्वाद से आज हम अपने जिले के लिए बहुत बड़ी सौगात हमें मिली है, जिसका लाभ जनपद भर के लोगों को मिलेगा। अब नाजुक स्थिति के मरीजों को भी तत्काल चिकित्सा सुविधा उपलब्ध हो सकेगी। पहले ऐसे क्रिटिकल मरीजों को आगरा रेफर किया जाता था। इस अस्पताल के शुरू होने के बाद जनता को बहुत लाभ होगा। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ रामबदन राम ने कहा कि इस अस्पताल के लिए विधायक जी ने जो प्रयास कर इतनी बड़ी योजना लेकर आना सराहनीय है। एस एन मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ बलवीर सिंह ने क्रिटिकल केयर हॉस्पीटल में होने वाले विकास कार्यों की जानकारी दी।

अन्य वक्ताओं में विश्वदीप सिंह, जिलाध्यक्ष उदयप्रताप सिंह, महानगर अध्यक्ष राकेश शंखवार, सुनील शर्मा, पूर्व विधायक राकेश बाबू एडवोकेट, सत्यवीर गुप्ता, राजेंद्र बोहरे, शिवमोहन श्रोत्रीय, अरविंद पचैरी, भगवानदास शंखवार, श्याम सिंह यादव, डॉ एसपीएस चैहान, सीएमएस डॉ नवीन जैन, डॉ पूनम अग्रवाल, डॉ विनोद अग्रवाल, डॉ महेश चंद्र गुप्ता, पीके झिंदल, रविन्द्र शर्मा, अमित गुप्ता आदि ने भी अपने विचार व्यक्त किये। इस दौरान पार्षदगण एवं शहर के गणमान्य लोग मौजूद रहे। कार्यक्रम का संचालन भगवानदास शंखवार ने किया।

Ravi
Ravi

रवि एक प्रतिभाशाली लेखक हैं जो हिंदी साहित्य के क्षेत्र में अपनी अनूठी शैली और गहन विचारधारा के लिए जाने जाते हैं। उनकी लेखनी में जीवन के विविध पहलुओं का गहन विश्लेषण और सरल भाषा में जटिल भावनाओं की अभिव्यक्ति होती है। रवि के लेखन का प्रमुख उद्देश्य समाज में सकारात्मक परिवर्तन लाना और पाठकों को आत्मविश्लेषण के लिए प्रेरित करना है। वे विभिन्न विधाओं में लिखते हैं,। रवि की लेखनी में मानवीय संवेदनाएँ, सामाजिक मुद्दे और सांस्कृतिक विविधता का अद्वितीय समावेश होता है।

Articles: 2218