फिरोजाबा: निगम ने आम जनमानस को सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग ने करने के लिए किया जागरूक

-अटल पार्क में महापौर ने निगम अधिकारियों संग किया वृक्षारोपण
-बस स्टेंड पर कपड़े से बने थैले को बांटकर, प्लास्टिक से होने वाले दुरूप्रभावों से कराया अवगत

फिरोजाबाद। नगर निगम द्वारा सिंगल यूज प्लास्टिक पूर्णतः प्रतिबन्धित कर पर्यावरण को सुरक्षित करने के उद्देश्य से जनजागरूकता, वृक्षारोपण, फ्लॉग रन एवं थैला वितरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें आम जनमानस को पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक किया गया।

बुधवार को महापौर कामिनी राठौर, प्रभारी स्वच्छ भारत मिशन अरविन्द भारती, स्वच्छ भारत मिशन ब्रांड एंबेसडर हरिओम वर्मा, अनुपम शर्मा, सफाई एवं खाद्य निरीक्षक मनोज कुमार, नगर निगम की आईईसी टीम द्वारा अटल पार्क में वृक्षारोपण कर पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया। साथ ही निगम द्वारा सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग नही करने हेतु एक आकर्षक सेल्फी प्वाइंट भी बनाया गया। जो कि आकर्षण का केंद्र रहा।

इस अवसर पर महापौर ने सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग नही करने की अपील करते हुये कहा कि सिंगल यूज वाली प्लास्टिक वस्तुएं कूड़े और प्रदूषण का कारण बनती हैं। इनमें से अधिकांश का ठीक से पुनर्चक्रण नहीं किया जाता है। वे नालियों को अवरुद्ध करते हुए मिट्टी को प्रदूषित करते हैं और जल निकायों में प्रवेश कर इन्हें भी दूषित करते हैं। इससे हमारे पर्यावरण को भी महत्वपूर्ण खतरा है। इसलिए सिंगल यूल प्लास्टिक का उपयोग करने से बचें। साथ ही कहा कि वृक्ष पर्यावरण में संतुलन स्थापित करने के साथ-साथ आम लोगों को सबलता भी प्रदान करता है। ऐसे में हर व्यक्ति को पौधे लगा कर पर्यावरण संतुलन बनाने में सहयोग करना चाहिए।

वहीं शहर बस स्टैण्ड परिसर में सिगल यूज प्लास्टिक को पूर्णतः प्रतिबन्धित करने हेतु जनसंदेश प्रसारित करने हेतु नगर निगम द्वारा डॉ मनोरमा गुप्ता के सहयोग से कपड़े से बने बैग (थैलों) का वितरण कर सिंगल यूज प्लास्टिक त्यागने की अपील की गई। कार्यक्रम के माध्यम से शहरवासियों को प्लास्टिक के उपयोग से होने वाले दुरूप्रभावों से अवगत कराया गया। इस दौरान प्रभारी स्वच्छ भारत मिशन अरविन्द भारती एवं स्वच्छ भारत मिशन ब्राण्ड एंबेसडर हरिओम वर्मा ने कहा कि प्लास्टिक हमारे पर्यावरण के लिए बहुत बड़ा खतरा है। इसलिए सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग न करें।

 

 

Ravi
Ravi

रवि एक प्रतिभाशाली लेखक हैं जो हिंदी साहित्य के क्षेत्र में अपनी अनूठी शैली और गहन विचारधारा के लिए जाने जाते हैं। उनकी लेखनी में जीवन के विविध पहलुओं का गहन विश्लेषण और सरल भाषा में जटिल भावनाओं की अभिव्यक्ति होती है। रवि के लेखन का प्रमुख उद्देश्य समाज में सकारात्मक परिवर्तन लाना और पाठकों को आत्मविश्लेषण के लिए प्रेरित करना है। वे विभिन्न विधाओं में लिखते हैं,। रवि की लेखनी में मानवीय संवेदनाएँ, सामाजिक मुद्दे और सांस्कृतिक विविधता का अद्वितीय समावेश होता है।

Articles: 2218