शिकोहाबाद: पहली बारिश में ही खुली पालिका की नाला सफाई की पोल

-चोक नालों की वजह से शहर में हुआ जलभराव, उतराती दिखी गंदगी
-कोतवाली परिसर में भी घुसा पानी, अधिवक्ताओं के तखत भी पानी में डूबे

शिकोहाबाद। मौसम की पहली बारिश ने ही नगर को पानी पानी कर दिया। नगर पालिका के नालों की सफाई के दाबों पर बारिश ने पानी फेर दिया। नाले चैक होने से निचले इलाकों में पानी भर गया और नालों की गंदगी सड़कों पर बिखर गई। जिससे लोगों को काफी परेशानी हुई। बारिश का पानी थाना परिसर में भी भर गया। जिससे फरियादियों के साथ ही पुलिस कर्मियों को भी परेशानी का सामना करना पड़ा।

बुधवार को मौसम की पहली बारिश हई। यह बारिश ज्यादा तेज नहीं थी, लेकिन फिर भी पूरा शहर जलमग्न हो गया। पक्का तालाब, तहसील तिराहा पर सड़क पर दो फीट तक पानी था। तहसील के बाहर रखे अधिवक्ताओं के तखत आदे पानी में डूबे हुए थे। कोतवाली परिसर में पानी भर गया था। इसके साथ ही पानी भर जाने से रजिस्ट्री कार्यालय में भी पहुंचने में लोगों को परेशानी हुई। इसके साथ ही एटा रोड पर चेयरमैन के आवास के साथ अन्य लोगों के घरों में बारिश का पानी भर गया। नगर की गलियों का ऊंचा नीचा होने के कारण जल भराव की समस्या रहती है।

स्टेशन रोड पर भी नाला चोक होने से पानी सड़क के ऊपर होकर बह रहा था। हॉस्पीटल के बाहर झोंपड़ी डाल कर रहे लोगों की झोंपड़ी पूरी तरह से पानी में भर गई। झोंपड़ी में रहने वाले लोग तखत पर बैठे नजर आए। स्टेशन रोड,पक्का तालाब, पंजाबी कॉलोनी, यादव कॉलोनी, रूकनपुरा सहित दर्जनों मोहल्लो में पानी ही पानी दिखाई दिया। नाला चोक होने के कारण उनमें पड़ी गंदगी बारिश के पानी के बहाव के कारण बाहर आ गई और सड़कों पर इधर-उधर बिखरी दिखाई दी। जिससे लोगों को बारिश के साथ गंदगी से भी बहुत परेशानी हुई।

गनीमत रही कि पानी रुक-रुक कर बरसा। अगर पानी लगातार 30-40 मिनट बरस जाता तो लोगों के घरों में पानी भर जाता और उन्हें काफी नुकसान का सामना करना पड़ता। स्थानीय लोगों ने पालिका प्रशासन से नालों की तलीझाड सफाई कराने और पानी की निकासी की समुचित व्यवस्था कराये जाने की मांग की है।