शिकोहाबाद: जमीन घोटले में मंगलवार को छठे दिन भी अधिवक्ताओं का विरोध प्रदर्शन जारी

मंगलवार को बैनामाओं की रजिस्ट्री का कार्य भी ठप्प कराया, आरोप घोटले में शामिल अधिकारियों को जाँच रिर्पोट में बचाया

शिकोहाबाद। 75 वीघा जमीन घोटले प्रकरण में मंगलवार को छठे दिन अधिवक्ताओं की हड़ताल जारी रही। अधिवक्ता मंगलवार को भी न्यायिक कार्य से विरत रहे।

अधिवक्ताओं ने बताया कि सोमवार को संगीता गोतम एडीएम न्यायिक से वार्ता विफल हो जाने के उपरांत मंगलवार को एसडीएम व अधिवक्ताओं के मध्य वार्ता हुई। एसडीएम ने अधिवक्ताओं को भरोसा दिलाया कि जिलाधिकारी स्तर से कार्यवाही हो रही है. आप लोग हड़ताल समाप्त कर न्यायिक कार्य पर बापस लौट आईयेगा। जिस पर अधिवक्ताओं ने कहा कि अभी तक जिलाधिकारी द्वारा कोई संतोषजनक कार्यवाही नही की गई है। शासन में क्या रिर्पोट भेजी है, इसको मीडिया के समक्ष उजागर क्यों नहीं किया जा रहा है। इसका मतलब शासन में भेजी गई रिर्पोट ठीक नही है।

अधिवक्ताओं ने एसडीएम को अपनी माँगों से अवगत कराया कि जमीन घोटले में अधिकारियों के रिश्तेदारों के हक में जो बैनामा हुये हैं उनका रजिस्ट्रेशन निरस्त किया जाये। जिन लोगों ने फसल नष्ट की है, उनके विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज कराकर क्षतिपूर्ति दिलाई जाये। अधिवक्ताओं ने विवेक राजपूत एसडीएम व नवीन कुमार नायव तहसीलदार को बचाने का प्रयास करने का आरोप लगाया है। अधिवक्ताओं ने उम्मेदबाबू महासचिव के नेतृत्व में नारेबाजी कर रजिस्ट्री कार्य मंगलवार को भी ठप्प रखकर अपना विरोध जताया। महासचिव ने शासन माँग कि यथा शीघ्र विवेक राजपूत एसडीएम व नायव तहसीलदार का निलम्बन कर इनके विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई जाये।

इस दौरान शिवकुमार शर्मा, वेदप्रकाश यादव, राहुल यादव, कपिल श्रीवास्तव, कृष्ण औतार यादव, ब्रजेश चंद्र, केपी सिंह, राघवेन्द्र सिंह, गोरव, देवेन्द्र यादव, महादेव राजपूत, रवीन्द्र श्रीवास्तव, सुभाष चंद्र, रक्षपाल सिंह, पवन, विनोद, राजेन्द्र प्रसाद शर्मा, श्रीकृष्ण, दिनेश, अनिल, रवीन्द्र राजपूत, आलोक श्रीवास्तव, रामकिशोर राजपूत, बीएस चैहान और अखिलेश यादव उपस्थित रहे।