सालो बीते जाने के बाद भी नहीं हो सका जिले का चैमुखी विकास

फिरोजाबाद। नगर में जनपद का 33 वां स्थापना दिवस उत्साह से मनाया गया। कार्यक्रम में जिले का बीते 32 साल में समग्र विकास न हो पाने एवं आम नागरिकों को बुनियादी सुविधाएं मुहैया न हो पाने पर चिंता जताई गई। इसके लिए एक बार फिर से एकजुट होकर संघर्ष करने पर चर्चा की गई।
जनपद स्थापना एवं विकास समिति के तत्वावधान में फिरोजाबाद जिले का 33 वां स्थापना दिवस नगर में सरस्वती शिशु मंदिर गोशाला पर मनाया गया। कार्यक्रम में वक्ताओं ने जिले के चहुंमुखी विकास और बुनियादी सुविधाओं के लिए एकजुट होकर पुनः एक बार फिर संघर्ष का रास्ता अपनाए जाने का आह्वान किया। मुख्य वक्ता प्राचार्य प्रभास्कर राय ने कहा कि जनपद के लिए संघर्ष करने वाले सभी लोग हमारे लिए वंदनीय हैं।
हम सबका दायित्व है कि जिले के विकास के लिए अधूरे कार्यों को साकार रूप देने के लिए आगे आएं। वरिष्ठ अधिवक्ता अनूप चंद जैन एडवोकेट ने कहा कि सभी जनपद वासियों को जिला बनाने वाले संघर्ष के साथियों के मार्गदर्शन में जिले के ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों के समग्र विकास के लिए एकजुटता के साथ नए रूप में विकास आंदोलन की शुरूआत करनी होगी।
अध्यक्षता कर रहे दिवजेंद्र मोहन शर्मा ने कहा के 32 वर्षों के बाद भी हमारा जिला चैमुखी विकास के लिए तरस रहा है। जो खेद का विषय है। उन्होंने कहा कि जब तक हम लोग जागरूक नहीं होंगे। तब तक जिले का विकास संभव नहीं है। समाजसेवी शीलमणि शर्मा ने कहा कि हम सब उन लोगों के आभारी हैं जिनके संघर्ष की अगुवाई से फिरोजाबाद जिला बन सका था। उन्होंने जिले के विकास की कड़ी में महिलाओं की सहभागिता के लिए आह्वान किया। समिति के संस्थापक झबबूलाल अग्रवाल ने कहा कि जिले का विकास आम जनमानस के सपनों के अनुसार नहीं हो सका है। कई योजनाएं, शहर का बस स्टैंड डिपो नहीं बना, ट्रांसपोर्ट नगर नहीं बना है।
अभी बहुत कुछ होना बाकी है। संस्था के महासचिव उमाकांत पचैरी एडवोकेट ने कहा कि वर्तमान जनप्रतिनिधियों को जनपद के विकास के लिए सकारात्मक भूमिका निभानी चाहिए। उन्होंने कहा जनपद के विकास के लिए जनपद स्थापना एवं विकास समिति फिर एक बार जनता का सहयोग लेकर संघर्ष के लिए तैयार है। देववाणी परिषद के अध्यक्ष डॉ.देवेंद्र शास्त्री ने अतिथियों को सम्मानित किया।
रवींद्रलाल तिवारी, धर्म सिंह यादव एडवोकेट, बनारसी लाल भोला, सत्येंद्र जैन सौली, कैलाश उपाध्याय, अजीत अग्रवाल, कौशल किशोर उपाध्याय, संदीप तिवारी ने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम में डॉ.रामकुमार शर्मा, देवव्रत पांडे, प्रवीण अग्रवाल सेवा सदन, आनंद मित्तल, डॉ.धीरेंद्र जैन, सुनील वशिष्ठ, राकेश अग्रवाल, इंजीनियर एससी अग्रवाल, विवेक तिवारी कन्हैया, राकेश कुमार गौतम, प्रशांत वशिष्ठ, उद्देश्य तिवारी, दीवान सिंह कुशवाह, मुकेश बंसल आदि की सहभागिता रही।

- Advertisement -
- Advertisement -spot_img

Related News

- Advertisement -