फिरोजाबाद: क्रीड़ा भारती के समर कैंप का हुआ शुभारम्भ

फिरोजाबाद। क्रीड़ा भारती द्वारा 25 मई से लेकर पांच जून तक समर कैंप का आयोजन बृजराज सिंह इंटर कॉलेज में किया जा रहा है। जिसमें बच्चों को विभिन्न विद्याओं में प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

समर कैंप का शुभारंभ क्रीड़ा भारती के अखिल भारती कोषाध्यक्ष मिलिंद दांगे व क्षेत्र संयोजक राजेश कुलश्रेष्ठ द्वारा दीप प्रज्वलन कर किया गया। वहीं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के महानगर संघचालक प्रदीप गुप्ता व संरक्षक गोविंद मित्तल द्वारा माल्यार्पण कर किया गया। मंचासीन अतिथियों का स्वागत केके यादव, राजेश दुबे, दीपक कुशवाह, अजय शर्मा द्वारा किया गया।

शतरंज कोच गौरव भारद्वाज व आशीष मिश्रा ने खेल का डैमो दिया। साथ ही बताया कि शतरंज खेल का जन्म भारत में ही हुआ, जिसका प्राचीन नाम शतरंज था, जो भारत से अरब होते हुए यूरोप पहुंचा। शतरंज का खेल दो खिलाड़ियों के बीच खेला जाने वाला एक बौद्धिक एवं मनोरंजक खेल है, यह खेल याददाश्त और आत्मविश्वास में बढ़ोतरी करता है और समस्याओं को हल करना सिखाता है।

कार्यक्रम का संचालन अभिषेक मित्तल क्रांति ने किया। योग प्रशिक्षक अंकित तिवारी द्वारा प्राणायाम, सूर्य नमस्कार करके बच्चों को दिखाया व नाडियों की जानकारी दी। ताइक्वांडो प्रशिक्षक रुपेश तिवारी ने सेल्फ डिफेंस के प्रयोग बच्चों को दिखाए। मोई थाई बॉक्सिंग के प्रशिक्षक शिवम शर्मा द्वारा लकड़ी के दो टुकड़े कर दिए गए, जिसे देखकर वहां उपस्थित बच्चों व युवाओं ने दांतो तले उंगली दबा ली।डांस प्रशिक्षण हैप्पी गुप्ता ने तेरी बातों में उलझा दिया गाने पर अपनी प्रस्तुति दी।

क्रीड़ा भारती प्रांत संपर्क प्रमुख सीताराम व प्रांत एकलव्य प्रतिभा खोज प्रमुख सुरेंद्र ने बच्चों को स्वस्थ खानपान व न्यूट्रीशन फूड की जानकारी दी। विद्यालय प्रबंधक अशेष सिंह व प्रधानाचार्य आरपी सिंह परमार का स्वागत व सम्मान महानगर अध्यक्ष रोहित राजपूत ने किया। कार्यक्रम में स्केटिंग कोच राहुल कुशवाह, ड्राइंग शिक्षका अंकिता गोयल का सम्मान महानगर दिव्यांग प्रमुख दिलीप द्वारा किया गया।

Ravi
Ravi

रवि एक प्रतिभाशाली लेखक हैं जो हिंदी साहित्य के क्षेत्र में अपनी अनूठी शैली और गहन विचारधारा के लिए जाने जाते हैं। उनकी लेखनी में जीवन के विविध पहलुओं का गहन विश्लेषण और सरल भाषा में जटिल भावनाओं की अभिव्यक्ति होती है। रवि के लेखन का प्रमुख उद्देश्य समाज में सकारात्मक परिवर्तन लाना और पाठकों को आत्मविश्लेषण के लिए प्रेरित करना है। वे विभिन्न विधाओं में लिखते हैं,। रवि की लेखनी में मानवीय संवेदनाएँ, सामाजिक मुद्दे और सांस्कृतिक विविधता का अद्वितीय समावेश होता है।

Articles: 2244