फिरोजाबाद: कल्याण मंदिर स्तोत्र विधान में श्रीजी के समक्ष 44 अध्र्य हुए समर्पित

फिरोजाबाद। राजा का ताल स्थित अतिशय क्षेत्र श्री पारसनाथ दिगंबर जैन मंदिर में धर्म की गंगा बह रही है। मुनि सोम दत्त सागर महाराज के सानिध्य में श्री कल्याण मंदिर स्तोत्र विधान का आयोजन किया गया।

सर्वप्रथम श्रीजी को पनडु्कशीला पर विराजमान किया गया। मुनि श्री के निर्देशन में प्रथम कलश का सौभाग्य राजेश जैन करे प्राप्त हुआ। द्वितीय तृतीय कलश का सौभाग्य क्रमशः विक्रम जैन, काव्य जैन को प्राप्त हुआ। उसके बाद शांति धारा और विधि विधान से प्रभु का मार्जन करके यथा स्थान पर विराजमान किया। 44 जोड़ों के साथ कल्याण मंदिर विधान प्रारंभ किया गया। जिसमें इंद्र इंद्राणियों ने भक्ति भाव से श्रीजी के समक्ष पूजा अर्चना की। श्रीजी के समक्ष 44 अध्र्यो को समर्पित किया गया। शांति पाठ विसर्जन कर विधान संपन्न किया गया।

उसके बाद मुनि सोमदत्त सागर महाराज ने कल्याण मंदिर स्तोत्र विधान की महिमा का वर्णन किया। इस दौरान सुविधि जैन, राकेश कुमार जैन, राजेश जैन, अमित जैन, गौरव जैन, विक्रम जैन, अनिल बाबू जैन, प्रभात जैन, सुधीर बाबू जैन, महेश चंद जैन, रजत जैन, संदीप जैन, लक्ष्य जैन, नितिन जैन, हर्षित जैन, शुभम जैन, हर्ष जैन, प्रवीण कुमार जैन, पिंकी, सुभाष चंद्र जैन एडवोकेट, मयूर जैन, सचिन जैन आदि मौजूद रहे।

Ravi
Ravi

रवि एक प्रतिभाशाली लेखक हैं जो हिंदी साहित्य के क्षेत्र में अपनी अनूठी शैली और गहन विचारधारा के लिए जाने जाते हैं। उनकी लेखनी में जीवन के विविध पहलुओं का गहन विश्लेषण और सरल भाषा में जटिल भावनाओं की अभिव्यक्ति होती है। रवि के लेखन का प्रमुख उद्देश्य समाज में सकारात्मक परिवर्तन लाना और पाठकों को आत्मविश्लेषण के लिए प्रेरित करना है। वे विभिन्न विधाओं में लिखते हैं,। रवि की लेखनी में मानवीय संवेदनाएँ, सामाजिक मुद्दे और सांस्कृतिक विविधता का अद्वितीय समावेश होता है।

Articles: 2218