फिरोजाबाद: एडीजी ने ऑपरेशन जागृति फेस-2 का किया शुभारंभ

सार्थक रहा फेस वन, महिला अपराधों में आई 22 प्रतिशत की कमी-एडीजी

फिरोजाबाद। ऑपरेशन जागृति फेस 2 का शुक्रवार को एडीजी आगरा ने शुभारंभ किया। जहां उन्होंने बताया कि फेस वन के परिणाम काफी सार्थक रहे। महिला अपराधों में 22 प्रतिशत तक की कमी आई है। फेस 2 अभियान 12 जुलाई तक चलेगा। इसमें पुलिस, प्रशास समेत शिक्षा और अन्य विभागों के अधिकारी सहयोग करेंगे।

शुक्रवार को पुलिस लाइन में बैठक लेते हुए एडीजी अनुपम कुलश्रेष्ठ ने कहा कि इससे पहले अभियान एक नवंबर 2023 से 24 जनवरी 2024 तक चलाया गया था। 81 दिनों तक चले इस अभियान के सार्थक परिणाम आए हैं। उन्होंने अभियान के उद्देश्य बताते हुए कहा कि इसके तहत युवा बालिकाओं को साइबर हिंसा के बारे में जागरुक व सचेत करना। पाक्सो अधिनियम के महत्वपूर्ण प्रावधानों के प्रति जानकारी देना। किशोरियों के साथ स्वस्थ रिलेशनशिप व जीवनशैली पर जागरुक करना। महिलाओं व बालिकाओं को अपने अधिकारों व सुरक्षा के बारे में समझ व जागरुकता पैदा करना। समुदाय को झूठे मुकदमों से होने वाली क्षति के बारे में जागरुक करना एवं ऐसे मामलों में कमी लाना।

विशेषकर महिलाओं की सुरक्षा हेतु बनाये गये कानूनों का दुरुपयोग के प्रति लोगों को सचेत करना। उन्होंने कहा कि प्रशिक्षित पुलिसध्प्रशासन एवं अन्य विभागों की टीम द्वारा गांव-गांव जाकर महिलाओं और बालिकाओं को उनके अधिकारों तथा पीडित महिलाओंध् किशोरियों की काउंसलिंग व रेफरल सुविधा भी उपलब्ध करायी जाएगी साथ ही सोशल मीडिया एवं साइबर अपराध सम्बन्धी आवश्यक जानकारी भी प्रदान की जाएगी।

आपरेशन जागृति के प्रमुख मुद्दे

एडीजी ने बताया साइबर बुलिंग के जरिए सोशल मीडिया पर अंजान लोग हमें फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजकर दोस्ती कर लेते हैं। फिर सारी जानकारी लेकर ब्लैकमेल करते हैं या आपकी छवि को धूमिल करते हैं। काउंसलिंग विक्टिम वाइलेंस क्राइम को लेकर बताया कि महिला या युवती से अपराध होने पर समाज उसे हीन दृष्टि से देखता है। ऐसे लोगों के मददगार बनिए। सैक्सुअल अफेंस को लेकर बताया कि रेप पीड़ित महिला या युवती को सहारा दें। झूठी रिपोर्ट न लिखाएं। इलोपमेंट को लेकर बताया कि प्रेम प्रसंग में जिन बालिकाओं के द्वारा गलत निर्णय ले लिया जाता है। उन बच्चों को समझाएं।