फिरोजाबाद: नुक्कड़ नाटक के माध्यम से लोगो को दिया मतदान जागरूकता का संदेश

फिरोजाबाद। डीएवी इंटर कॉलेज की छात्राओं द्वारा नुक्कड़ नाटक के माध्यम से राहगीरों को मतदाता जागरूकता का संदेश दिया गया। साथ ही सात मई को वोट देने की अपील की।

ईएलसी सहायक नोडल अधिकारी हिमांशु शर्मा ने बताया कि आज छात्राओं द्वारा बस स्टेंड, रेलवे स्टेशन आदि स्थानों राहगीरों एवं यात्रियों को मतदाता जागरूकता का संदेश दिया गया। यह एक सराहनीय पहल है, जिसके माध्यम से लोगों को मतदान के प्रति जागरूक किया जा रहा है। नाटकों के माध्यम से आम जन को जागरूक कर निष्पक्ष, निर्भीक होकर मतदान करने का संदेश दिया गया।

छात्राओं ने नाटक के माध्यम से बताया कि हमें अधिक से अधिक संख्या में मतदान करना चाहिए और एक अच्छी सरकार का गठन करना चाहिए। जाति, धर्म पर वोट नहीं करना चाहिए। किसी के द्वारा दिए गए लालच में आकर अपना मतदान नहीं करना चाहिए और गलत प्रत्याशी का चयन नहीं करना चाहिए। बल्कि ऐसे प्रत्याशी को चुनना चाहिए जो आपकी नजरों में सही हो और जो आपकी बात सुने। इसके अलावा दूसरों को भी शत प्रतिशत मतदान करने के लिए प्रेरित करना चाहिए।

नुक्कड़ नाटक के माध्यम से विद्यार्थियों ने मतदान के महत्व, एक जागरूक नागरिक होने की जिम्मेदारी और लोकतंत्र के महाउत्सव में भाग लेने के लाभों पर प्रकाश डाला। नाटक के पात्रों ने मतदाता उदासीनता, भ्रष्टाचार का नाटकीय चित्रण किया। विद्यार्थियों के अभिनय से न केवल दर्शकों का ध्यान आकर्षित किया, बल्कि उनके भीतर एक गहरी छाप छोड़ी, जिससे उन्हें अपने मताधिकार का उपयोग करने के लिए प्रेरित किया गया। विद्यार्थियों की इस पहल ने मतदाता जागरूकता के साथ युवाओं को चुनावी प्रक्रिया में सक्रिय रूप से भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

रेलवे स्टेशन पर यात्रीगण को शत प्रतिशत मतदान की शपथ भी दिलवाई गई। इस अवसर पर ईएलसी सहायक नोडल अधिकारी हिमांशु शर्मा, कन्हैया गोस्वामी आदि उपस्थित रहे। नुक्कड़ नाटक में डोली, रोशनी, जूही, दिव्या, अंजलि, परी, प्रीति, नैना, अमन, विकास आदि ने प्रतिभाग किया।

 

praveen upadhyay
praveen upadhyay

शालू एक उत्साही और समर्पित पत्रकार हैं, जो पत्रकारिता के क्षेत्र में अपनी ताजगी और नवाचार के लिए पहचानी जाती हैं। उन्होंने विभिन्न सामाजिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक मुद्दों पर गहरी और संवेदनशील रिपोर्टिंग की है। शालू की लेखनी की विशेषता उनकी संवेदनशील दृष्टिकोण और सटीक तथ्यों की प्रस्तुति है, जो पाठकों को घटनाओं की वास्तविकता से रूबरू कराती है।

Articles: 1144