फिरोजाबाद: ग्रामीणों ने युवक को दी तालिबानी सजा, जूते की माला पहनाकर की मारपीट, साथ ही कराया मुंडन, वीडियो हुआ वायरल

फिरोजाबाद। थाना पचोखरा क्षेत्र में एक युवक के साथ ग्रामीणों ने पहले तो मारपीट की। इसके बाद उसके गले में जूतों की माला पहनाकर उसका सिर मुड़वा दिया। ग्रामीण युवक पर गांव की ही एक महिला से संबंध होने का आरोप लगा रहे थे। घटना की रिपोर्ट महिला ने गांव के ही सात लोगों के खिलाफ लिखाई है। वहीं इसका सोशल मीडिया पर भी वीडियो वायरल हो रहा है।

घटना थाना पचोखरा के गांव पमारी की है। यहां के निवासी एक युवक के घर गांव रासपुर निवासी जितेन्द्र का आना जाना था। उसको लेकर गांव के लोगों ने युवक की पत्नी पर आरोप लगाया कि उसके युवक से गलत संबंध हैं। जब इसकी जानकारी महिला के पति को हुई तो उसने सत्यता की जानकारी करने के लिए जितेन्द्र को अपने घर बुलाया। जैसे ही जितेंद्र उसके घर आया वैसे ही गांव के अजय पुत्र करू, आसिफ पुत्र जितेन्द्र, नरेश पुत्र वीरेन्द्र, भूरी सिंह पुत्र उदयवीर, कुलदीप पुत्र जयसिंह, संजू पुत्र बंगाली, छोटे पुत्र बाबू लाल आए और उसके साथ मारपीट कर डाली।

इसके साथ ही आरोपियों ने उसके गले में जूतों की माला भी पहना दी। उसको नीचे बैठाकर उसके सिर का मुंडन करा दिया। इसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। वीडियो में साफ दिखाया है कि युवक नीचे बैठा हुआ है, जिसके गले में जूतों की माला पड़ी है। ग्रामीण उसको पीटते हुए उसका सिर मुड़वा रहे हैं। यह घटना क्षेत्र में चर्चा का विषय बनी हुई है। महिला ने युवक के साथ मारपीट करने व अमानवीय कृत्य करने वाले सात लोगों के खिलाफ पचोखरा थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है।

क्षेत्राधिकारी अनिवेश कुमार ने बताया है कि गांव पमारी में मारपीट की घटना संज्ञान में है। युवक का सिर भी मुड़वाया गया है और उसे जूतों की माला भी पहनाई है। आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट लिख ली गयी है। सभी के खिलाफ वैधानिक कार्रवाई की जा रही है।

 

Ravi
Ravi

रवि एक प्रतिभाशाली लेखक हैं जो हिंदी साहित्य के क्षेत्र में अपनी अनूठी शैली और गहन विचारधारा के लिए जाने जाते हैं। उनकी लेखनी में जीवन के विविध पहलुओं का गहन विश्लेषण और सरल भाषा में जटिल भावनाओं की अभिव्यक्ति होती है। रवि के लेखन का प्रमुख उद्देश्य समाज में सकारात्मक परिवर्तन लाना और पाठकों को आत्मविश्लेषण के लिए प्रेरित करना है। वे विभिन्न विधाओं में लिखते हैं,। रवि की लेखनी में मानवीय संवेदनाएँ, सामाजिक मुद्दे और सांस्कृतिक विविधता का अद्वितीय समावेश होता है।

Articles: 2244