शिकोहाबाद: यातायात पुलिस ने छात्र-छात्राओं को यातायात नियमों के प्रति किया जागरूक

शिकोहाबाद। यातायात पुलिस टीम द्वारा सड़क सुरक्षा पखवाड़ा अभियान के अन्तर्गत जनपद के विभिन्न स्कूलों, कॉलेजों में छात्र-छात्राओं को यातायात नियमों का पालन करने हेतु जागरूक किया।

इसी क्रम में चौधरी झाऊलाल इंटर कॉलेज और छदामीलाल जैन इंटर कॉलेज फिरोजाबाद में छात्र-छात्राओं को यातायात नियमों का पालन करने हेतु जागरूक किया गया। सभी विद्यार्थियों को यातायात नियमों का पालन करने की शपथ दिलाई गई। 15 से 31 दिसम्बर तक सड़क सुरक्षा पखवाड़ा मनाया जा रहा है। शासन की मंशानुसार समस्त प्रदेश में सड़क सुरक्षा पखवाड़ा अभियान चलाया जा रहा है।

सी क्रम में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के निर्देशन और क्षेत्राधिकारी यातायात के नेतृत्व में मंगलवार को यातायात प्रभारी पुलिस टीम के साथ चौधरी झाऊलाल इंटर कॉलेज में पहुंचे। उन्होंने छात्र-छात्राओं को यातायात नियमों एवं मानकों का पालन करने हेतु जागरूक किया। सभी छात्र-छात्राओं को यातायात सम्बन्धी नियमों से अवगत कराते हुए सदैव यातायात नियमों का पालन करने की अपील की। सभी को यातायात नियमों का पालन करने की शपथ दिलायी गयी।

सड़क सुरक्षा, जीवन रक्षा हेतु निम्नलिखित यातायात नियमों का सदैव पालन करें। सीट बेल्ट व हेलमेट का प्रयोग करें। वाहन चलाते समय हमें सीट बेल्ट या हेलमेट पहनने की सलाह दी जाती है। परन्तु इन चेतावनियों के बावजूद भी लोग इन नियमो का पालन नहीं करते है। सीट बेल्ट और हेलमेट वाहन चलाते समय महत्वपूर्ण सुरक्षा उपकरण है। दुर्घटना होने पर चोट लगने की सम्भावना को कई गुना कम कर देता है।

उन्होंने बच्चों को बताया कि वे रैड लाइट का उल्लंघन न करें। ग्रीन लाइट होंने पर ही वाहन चलाएं। रैड लाइट में वाहन को रोक लें अन्यथा किसी अन्य वाहन से दुर्घटना हो सकती है। हमे हमेशा अपने निर्धारित लेन में ही वाहन चलाना चाहिए। ऐसे करने से ट्रैफिक का संचालन आसानी से होता है। वही शॉर्टकट या जल्दबाजी के चक्कर में आप अगर अपनी लेन बदलते है तो ना सिर्फ इससे दुर्घटना की सम्भावना बढ़ जाती है अपितु दूसरे लोगों को भी नुकसान पहुँच सकता है।

ओवरटेक से बनाएँ दूरी-सड़क पर अक्सर हम दूसरे वाहन को जल्दबाजी के चक्कर में ओवरटेक करने के प्रयास करते है। ऐसा करने से दुर्घटना होने की सम्भावना कई गुना बढ़ जाती है। अधिकतर दुपहिया वाहनों की दुर्घटना का कारण अनावश्यक ओवरटेक करना ही है। ऐसे में ओवरटेक से दूरी बनाए रखना ही बेहतर विकल्प है। ओवरटेक हमेशा दायीं ओर से एवं ड्राइवर द्वारा ओवरटेक करने के लिए संकेत देने के पश्चात ही करें। नो एंट्री का रखे खास ख्याल।

जब भी रोड निर्माण, रोड मरम्मत, नाली.निर्माण, पाइपलाइन बिछाना या अन्य प्रकार से निर्माण कार्य चलते है, तो ऐसी जगहों पर सम्बंधित विभाग द्वारा नो एंट्री का बोर्ड लगा दिया है। कई लोग इन चेतावनियों के बावजूद भी इन जगहों पर वाहन ले जाते है जो की खतरनाक हो सकता है। इसके साथ ही कुछ लोग शराब पीकर वाहन चलाते हैं, जिससे दुर्घटनाएं होती हैं। इसी तरह की अन्य जानकारियां भी दी गईं। कार्यक्रम के बाद विद्यालय प्रबंधक प्रमेंद्र यादव उर्फ लल्ला भैया ने सभी का आभार व्यक्त किया।

- Advertisement -
- Advertisement -spot_img

Related News

- Advertisement -