शिकोहाबाद: सिंचाई निदेशक ने ग्राम सचिवालय का किया निरीक्षण

-दिल्ली के करोडीमल महाविद्यालय के छात्र-छात्राएं तीन दिन गांव में रुक कर बनाएंगे स्टोरी

शिकोहाबाद। तहसील क्षेत्र के गांव कंथरी में बनाया गया सचिवालय एक मॉडल है। जिसे देखने के लिए दूर-दूर से लोग आ रहे हैं। यहां जिस तरह से ग्राम प्रधान द्वारा विकास कार्य कराये गये हैं, उन पर अब छात्र-छात्राएं स्टोरी तैयार कर इस मॉडल को पूरे देश में प्रसारित करेंगे। जिससे अन्य ग्राम प्रधान भी इससे प्रेरणा लेकर अपने ग्राम सचिवालय को मॉडल बना सकें।

शुक्रवार को लखनऊ से निदेशक सिंचाई हीरालाल कनौजिया कंथरी गांव में पहुंचे। उनके साथ दिल्ली के करोड़ीमल महाविद्यालय के छात्र-छात्राएं भी थे। उन्होंने बताया कि कंथरी के सचिवालय की ख्याति दूर तक है। इस लिए दिल्ली महाविद्यालय के छात्र-छात्राएं भी इसे देखने और इस पर एक स्टोरी तैयार करने के उद्दश्य से उनके साथ आए हैं।

उन्होंने बताया कि जिस तरह से प्रधान के ग्राम सचिवालय को बनाया है, जिस तरह से उनका कार्यालय है, एसा तो उनका भी कार्यालय नहीं है। उन्होंने अन्य प्रधानों को भी इससे प्रेरित होकर अपने गांव में भी इसी तरह का सचिवालय बना कर मॉडल प्रस्तुत करना चाहिए। सिंचाई निदेशक गांव में लगभग तीन घंटे तक रुके और शाम को वापस लखनऊ के लिए रवाना हो गये।

उन्होंने बताया कि वह फिरोजाबाद में सीडीओ के पद पर रह चुके हैं। और वह फिरोजाबाद के प्रत्येक गांव और कसबा से अच्छी तरह परचित हैं। हीरालाल ने बताया कि अपनों के बीच में आकर उन्हें बहुत अच्छा लगा। गांव का सचिवालय और ग्राम में हुए विकास कार्यों से वह काफी प्रभावित हुए। इस दौरान उनके साथ डीपीआरओ नीरज सिन्हां, ग्राम प्रधान ई. प्रदीप कुमार, सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद रहे।

इस दौरान एक रैली का भी आयोजन किया गया। रैली में शामिल प्रत्येक समूह की महिलाएं हाथों में स्लोगन लिखी तख्तियां लेकर चल रही थीं। जिसमें ग्रामीणों को साफ सफाई तथा शिक्षा के प्रति जागरूक करने के लिए स्लोगन लिखे हुए थे।

इसके बाद सचिवालय में एक बैठक हुई। जिसमें कूड़ा मुक्त बनाने पर बैठक हुई। इसके बाद निदेशक और प्रोफेसर ने वृक्षारोपण पीपल, बरगद और नीम के 11 पौधे लगाए। इसको ऑक्सीजन प्लांट बनायेंगे और आंगनबाड़ी केंद्र का भी निरीक्षण किया।

प्रोफेसर रूपेन्द्र ओवेरॉय के नेतृत्व में एक छात्र-छात्राओं का दल भी कंथरी पहुंचा। यह सभी अंडर ग्रेजुएशन के छात्र हैं। इन छात्र-छात्राओं में आशिमा, मानसी गौतम, आरिश गाजी, दिव्यांश चतुर्वेदी, आर्दश सचान, ध्रुव कपूर, प्रत्युष बिज शामिल हैं। आशिमा ने बताया कि वे सभी करोड़ीमल महाविद्यालय दिल्ली के अंडर ग्रेजुएशन के छात्र हैं। वह यहां तीन दिन रुक कर गांव के विकास की कहानी को समझेंगे और अपनी एक स्टोरी तैयार करेंगे।

जिससे अन्य ग्रामीणों में जाकर प्रदेश स्तर पर इसे लागू कराया जा सके। उन्होंने कंथरी गांव के ग्रांम सचिवालय को देखा तो वह भी प्रशंसा करने से खुद को नहीं रोक सके। प्रधान ई. प्रदीप कुमार ने निदेशक सिंचाई के साथ प्रोफेसर और छात्र-छात्राओं का स्वागत किया।

- Advertisement -
- Advertisement -spot_img

Related News

- Advertisement -