शिकोहाबाद: योगी सरकार में भूमाफियाओं की नजर मंदिर की जमीन पर

-फर्जी ट्रस्ट बना कर मंदिर की जमीन हड़पने की कवायद, अधिकारियों पर दवाब बना कर मंदिर का निर्माण कार्य रुकवाया

शिकोहाबाद। योगी सरकार में जहां अपराधियों पर बुलडोजर चल रहा है। वहीं नगर में कुछ भूमाफियाओं ने मंदिरों की जमीन हड़पने के लिए नया हथकंडा अपना लिया है। फर्जी ट्रस्ट बना कर और कुछ तथाकथित पत्रकारों को साथ लेकर मंदिर की जमीन हड़पने का काम कर रहे हैं।

विगत कुछ दिनों से नगर का एक मंदिर सुर्खियों में है। यहां कोर्ट के आदेश पर पुलिस ने मंदिर की जमीन को खाली कराया और मंदिर के सर्वराकार को दखल व कब्जा दिलाया। इसके बाद मंदिर के सर्वराकार ने कब्जा ली गई जमीन पर निर्माण कार्य प्रारंभ कर दिया। जैसे ही मंदिर की जमीन पर सर्वराकार द्वारा मंदिर निर्माण की जानकारी हुई वैसे ही भूमाफिया सक्रिय हो गये।

उन्होंने आनन-फानन में न्यायालय से क्वैरी निकलवाई और निर्माण कार्य का विरोध करने लगे। इन लोगों ने थाने और तहसील में शिकायत की है कि मंदिर की जमीन को सर्वराकार द्वारा बेंच दिया है। जिसके बाद उप जिलाधिकारी ने दोनों पक्षों को बैठा कर मामले को संज्ञान में लिया और शिकायत की जांच तक सर्वराकार से निर्माण कार्य रोकने की बात कही है।

सर्बवकार ने बताया कि मंदिर के नाम से विगत वर्ष एक फर्जी ट्रस्ट गठित किया गया है। इनकी मंशा उक्त मंदिर की करोड़ों की जमीन को हड़पने की है। फर्जी समिति के पदाधिकारियों और कुछ स्थानीय लोगों के साथ नगर के कुछ तथाकथित पत्रकारों को इसमें शामिल कर लिया है। इन सभी लोगों ने न्यायालय द्वारा खाली व कब्जा दिलाई गई जमीन को बेंचने की शिकायत की और अधिकारियों पर दवाब बना कर निर्माण कार्य को रुकवा दिया है।

पीड़ित मंदिर के सर्वराकार अधिकारियों से खाली कराई गई जमीन पर निर्माण के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहा है, लेकिन अधिकारी उसे इधर से उधर दवाब के चलते घुमा रहे हैं। विगत दो दिनों से मंदिर के सर्वराकार और फर्जी ट्रस्ट के लोग थाने और तहसील में अपना पक्ष रख रहे हैं, लेकिन कोई हल नहीं निकल पा रहा है।

-कुछ लोगों ने प्रशासन द्वारा मंदिर की खाली कराई गई जमीन को बेचने की शिकायत की है। जिसकी जांच की जा रही है। जांच रिपोर्ट आने तक लोगों की शिकायत पर निर्माण कार्य को रुकवा दिया है। मंदिर की जमीन है और मंदिर की ही रहेगी। मंदिर की जमीन को किसी को बेचने और ना ही किसी को कब्जा करने दिया जायेगा।
विवेक मिश्रा, एसडीएम शिकोहाबाद

- Advertisement -
- Advertisement -spot_img

Related News

- Advertisement -