फिरोजाबाद: चरित्र निर्माण से ही राष्ट्र निर्माण संभव-जगराम

-एस.आर.के. (पीजी) कॉलेज में हुआ एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन

फिरोजाबाद। नगर के प्रमुख एस.आर.के. (पीजी) कॉलेज एवं शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास, नई दिल्ली के संयुक्त तत्वावधान में गुरूवार को राष्ट्रीय शिक्षा नीति के प्ररिप्रेक्ष्य में मूल्य परक शिक्षा एवं चरित्र निर्माण विषय पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि एवं मुख्य वक्ता के रूप में शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास, नई दिल्ली के संगठन मंत्री उत्तर-पश्चिम-मध्य क्षेत्र जगराम रहे।

कार्यक्रम का शुभारंभ माँ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्ज्वल अतिथियों एवं महाविद्यालय के प्राचार्य प्रो. प्रमोद कुमार सीरौठिया द्वारा किया गया। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता जगराम ने छात्र-छात्राओं को संबोधित करते हुये कहा कि किसी व्यक्ति के विचार, इच्छायें एवं आचरण जैसा होगा उसी के अनुरूप चरित्र का निर्माण होता है तथा चरित्र निर्माण से ही राष्ट्र निर्माण संभव है। जीवन की स्थायी सफलता का आधार मनुष्य का चरित्र ही है।

महाविद्यालय के प्राचार्य प्रो. प्रमोद कुमार सीरौठिया ने कहा कि सदाचरण, सदाचार एवं सत्कर्मों की एकरूपता ही चरित्र है। देश के युवाओं के चरित्र निर्माण से देश एक बार पुनः विश्व गुरू का गौरव प्राप्त करेगा। महाविद्यालय प्रबंध समिति के सहसचिव डॉ विनय कुमार गोयल ने चरित्र निर्माण एवं व्यक्तित्व विकास पर छात्र-छात्राओं को संबोधित किया।

कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में डॉ अलंकार शर्मा, संयोजक शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास, ब्रज प्रान्त, डॉ राजकुमार शर्मा, अध्यक्ष शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास, ब्रज प्रान्त, प्रो. रीता निगम, क्षेत्रीय संयोजक चरित्र निर्माण शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास, डॉ उदारता संयोजक महिला कार्य शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास ब्रज प्रांत, ब्रजकुमार शर्मा, यादवेन्द्र आदि सम्मलित हुये। कार्यक्रम में डॉ अमित कुमार शर्मा, पंकज भारद्वाज, डॉ नवीन कुमार लवानियाँ, रितु शर्मा, नित्य प्रकाश, डॉ वन्दना सिंह, व्योमेश यादव, डॉ आलोक प्रताप सिंह सिकरवार, डॉ पूनम तोमर, पवन तैनगुरिया आदि का सहयोग रहा।

- Advertisement -
- Advertisement -spot_img

Related News

- Advertisement -