Skip to content

आचार्य विद्या सागर को दी गई अभूतपूर्व विन्याँजलि

फिरोजाबाद। श्री छदामीलाल दिगम्बर जैन मंदिर में आचार्य विद्या सागर गुरुदेव को नगर सम्पूर्ण जैन समाज द्वारा मुनि अमित सागर गुरुदेव के ससंघ सानिध्य अभूतपूर्व भावपूर्ण विन्याँजलि दी गई। जिसमे दूर-दराज क्षेत्रों से पधारे एवं स्थानीय विद्वानों ने अपने सम्बोधन में आचार्य भगवन का गुणानुवाद किया।

नगर के छदामीलाल जैन मंदिर में मुनि अमित सागर गुरुदेव के सानिध्य में आचार्य विद्या सागर को विन्याँजली दी गई। मुनिश्री ने कहा कि गुरु को अपने मन में बिठाना सेल है, परन्तु उतना ही दुरूह कार्य है गुरु के मन में स्वयं को बिठाना। उन्होंने कहा कि आचार्य श्री किसी को भी नियमो एवं चारित्र की कसौटी पर खरे उतरे बिना दीक्षा नहीं देते थे। आचार्य श्री पूछने वाले की तीव्र इच्छा को पहचानकर उसके प्रश्नों का उत्तर देते थे।

इस अवसर पर महापौर कामिनी राठौर एवं नगर विधायक मनीष असीजा ने आचार्य श्री के चित्र के सम्मुख दीप प्रज्वलित किया तथा मुनिश्री से आशीर्वाद भी लिया। नगर विधायक मनीष असीजा ने आचार्य श्री को नमन करते हुए कहा कि ऐसे राष्ट्र संत के प्रत्येक देश वासी नतमस्तक है। उन्होंने कहा कि भाजपा कि राष्ट्रीय कार्य कारिणी की बैठक में प्रधानमंत्री मोदी के साथ सभी पदाधिकारियों ने आचार्य श्री को विन्याँजली दी है।

महापौर कामिनी राठौर ने कहा कि जैन मुनियों और आचार्यों की चर्या, उनका आचरण और धर्म निष्ठां सदैव वंदनीय है। प्रवक्ता अनूप चंद्र जैन एडवोकेट ने कहा कि ऐसे राष्ट्र संत को भारत सरकार को भारत रत्न से सुशोभित करना चाहिए। आगरा से पधारे गणतंत्र शास्त्री ने कहा कि जैन संत कि समता समाधि महोत्सव होती है। जैन मुनि जीवन, पर्यंत, आत्म साधना में लीन रहते हैं।

विन्याँजली सभा में पंडित राम सनेही यायावर, पंडित अजय जैन, पंडित निलय जैन, अनुराग, अमित जैन, संजीव जैन, मयंक जैन, श्री मती नीता जैन, अरुण जैन पीली कोठी, पीयूष जैन, प्रमोद जैन, ललितेश जैन, सुधीर जैन, सतेंद्र जैन सोली, अरुण जैन, आदीश ने अपने विचार व्यक्त किये। सभा का संचालन सौरभ जैन शास्त्री ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *