Skip to content

फिरोजाबाद: भगवान शांतिनाथ के स्मरण मात्र से ही सभी पापों का नाश हो जाता-मुनि अमित सागर

फिरोजाबाद। नगर में चल रहे 16 दिवसीय शांतिनाथ विधान में विभिन्न धार्मिक कार्यक्रमों के साथ शिकोहाबाद के साहित्यकार की दो कृतियों का विमोचन जैन मुनि अमित सागर महाराज ने किया। मंदिर प्रांगण भगवान शांतिनाथ की जयकारों से गूंजता रहा।

नगर के पीडी जैन स्थित नसिया जी मंदिर कोटला रोड पर जैन धर्म के 16 वें तीर्थकर भगवान शांतिनाथ का 16 दिवसीय शांति विधान एवं विश्व शांति महायज्ञ का आयोजन किया जा रहा है। रविवार को विधान में विभिन्न धार्मिक कार्यक्रम सम्पन्न हुए। जैन आचार्य अमित सागर महाराज के सानिध्य में योग ध्यान कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। मंत्रोच्चारण के साथ भगवान शांतिनाथ का अभिषेक एवं शांति धार की गई। भगवान पाश्र्वनाथ का पूजन किया। श्रद्वालुओं ने भक्ति संगीत के स्वरों के बीच नृत्य करते हुए भगवान के समक्ष अध्र्य समर्पित किये।

जैन आचार्य अमित सागर ने कहा कि भगवान शांतिनाथ का स्मरण करने से ही सभी पापों का नाश हो जाता है। उन्होंने कहा कि विधान में भाग लेने से घर में सुख समृद्वि और शांति आती है। जिससे पूरा परिवार सुखी हो जाता है। शिकोहाबाद के साहित्यकार प्रकाश चंद्र जैन की लिखित पुस्तक कृष्ण रूक्मणी विवाह एवं नेमिनाथ वैराग्य और दूसरी पुस्तक अकलंक हिंदी का विमोचन जैन मुनि अमित सागर के समक्ष किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *